Ads 1

Yaar usne mujhe bahut rulaya | sad Hindi poetry |trd shayari by KANAHA KAMBOJ

 

kanaha kamboj poetry shayari




About This poem:- This beautiful Poem 'Yaar Usne Mujhe Bahut Rulaya' written by Kanaha Kamboj
(FOR TRD) 

Yaar Usne Mujhe Bahut Rulaya


तू जरूरी है हर जरूरत को आजमाने के बाद
तू चलाना मर्जी अपनी मेरे मर जाने के बाद 
है सितम ये भी कि हम उसे चाहते हैं
वो भी इतना सितम ढाने के बाद 

"tu jaruri hai har jarurat ko aajmane ke baad
tu chalana marji apani mere Mar Jane ke baad 
Hai sitam ye bhi ke ham use chahte hai 
Wo bhi itna sitam dhane ke baad.. 

हो इजाजत तो तुझे छूकर देखूं
सुना है मरते नहीं तुझे हाथ लगाने के बाद 
वो रास्ते में मिली तो मुस्कुरा दिया देखकर
बहुत रोया मगर घर जाने के बाद
है तौहीन मेरी जो तुम कर रही हो
आवाज उठाई नहीं जाती सर झुकाने के बाद

"Ho izajat to tujhe chukar dekhu 
Suna hai marte Nahi tujhe hath lagane ke baad 
Wo rashte mai mile to muskara diya dekhkar 
BAHUT roya Magar ghar Jaane ke baad
Hai toiheen meri jo tum kar rahi ho 
Awaj uthai Nahi jati sar jhukane ke baad.. 

कितनी पागल है मुझे मेरे नाम से पुकार लिया 
मुझे पहचानने से मुकर जाने के बाद
मुझसे मिलने आओगी ये वादा करो
मुलाकात रकीब से हो जाने के बाद
वैसे हो बड़े बदतमीज तुम कान्हा
किसी ने कहा अपनी हद से गुजर जाने के बाद

Kitni pagal hai mujhe mere naam se pukar Liya 
Mujhe pahchanne se mukar Jaane ke baad 
Mujhse milne aaoge ye wada karo 
Mulakaat rakeeb se ho Jane ke baad 
Wase ho bade badtmeez tum kanaha 
Kise ne kaha apani had se Gujar Jane ke baad.. 

तेरी हर हकीकत से रूबरू हो गया हूं मैं
ये पर्दा किस बात का कर रही हैं
एक मैं हूं आंखों से आंसू नहीं रुक रहे 
एक तू है कि हंस के बात कर रही है 
लहजे में मुआफ़ी, आँखों में शर्म तक नहीं 
ये एक्टिंग का कोर्स तू लाजवाब कर रही है

Teri har hakiqat se rubaru ho gya hu mein
Ye parda Kis baat ka kar rahi hai 
Ek mai hu ankho se aanshu Nahi ruk rahe 
Ek tu hai ki has ke baat kar rahi hai
Lahje mai muaafi ankho mai sharm tak Nahi 
Ye Acting ka course tu lazawab kar rahi hai.. 

सारी रात उसे छूने से डरता रहा
मैं बेबस, बेचैन बस करवटें बदलता रहा 
हाथ तो मेरा ही था उसके हाथ में
बस बात ये है कि जिक्र किसी और करता रहा

Saari raat use chune se darta raha 
Mai bewas bechain bas karwate badalta raha 
Hath to mera he tha uske hath mai 
Bas baat ye hai ki zikar Kise aur Karta raha... 

गिरा ले मुझे अपनी नजरों से कितना ही 
झुकने पर तो मजबूर मैं तुझे भी कर दूंगा 
एक बार बदनाम करके तो देख मुझे महफ़िल में
कसम से शहर में मशहूर मैं तुझे भी कर दूंगा

Gira le mujhe apani nazaro se Kitna he 
Jhukne par to majboor mai tujhe bhi kar dunga
Ek baar badnam karke to dekh mujhe mahfil mai 
Kasam se saher mai mashoor mai tujhe bhi kar dunga... 

कहती है तुमसे ज्यादा प्यार करता है 
उसकी इतनी औकात है क्या?
रकीब का सहारा लेकर कान्हा को बुला दूंगी 
तेरा दिमाग खराब है क्या?

Kahti hai Tumse jayda payar Karta hai 
Uski itani aukaat hai kya? 
Rakeeb ka sahara Lekar kanaha ko bula dungi 
Tera dimag kaharb hai kya...?

                                            – Kanha Kamboj

Post a comment

0 Comments