Ads 1

New sad shayari for boys in hindi | सैड शायरी बॉय |trdshayari

 Sad shayari for boys 2021

Sad shayari for boys 2021


बेवफ़ाई का आलम ये है मेरे शहर में,
मैं किसी से बात भी कर लूँ.... तो उन्हें सुबूत चाहिए.....

Bewafai ka Aalam ye hai mere sehar mai,
Me Kise se baat bhi kar lu.. To unhe saboot chahye.....


वफ़ा के कुछ अपने उसूल होने चाहिए,
साथ न दें न सही, साथ वाले बेवफा न होनें चाहिए.......

Wafa ke kuch Apne vasool hone chahye,
Sath na de na Sahi sath wale bewafa na hone cahye....


उम्मीदें कुछ ज्यादा ही पाल लेते है मोहब्बत में,
जिंदगी अलग है सब की...... हर बात बोल के बताई जाए, ज़रूरी तो नहीं......

Umeede kuch jayda he paal
late hai mohabbat me,
Zindagi alag hai sab ke. Har baat bol ke jatai jaye
Jaruri to Nahi....


इतनी पाबंदियाँ ..गर.... इश्क़ में... तो मंजूर नही हमें,
हमने तो मोहब्बत को समझा था.. खुलापन.....

Itani pawandiya gar ishq mai  hai
To manjoor Nahi hame,
Hamne to mohabbat ko samjha tha... Khullapan

.

चलो कहीं चलोगे......
हाँ..... शायद वक़्त न हो तुम्हारे पास,
कोई बात नहीं ..... हम अकेले ही चले चलते हैं तुम्हारे यादों के साथ.....

Chalo kahi chaloge..
Ha shayad waqt na ho tumhare pas,
Koi baat Nahi.. Ham akale he Chale chalte hai
Tumhare yaado ke sath.... ❣️


Best Sad shayari for boys Whatsapp status

Sad shayari for boys in hindi


दिल भी मेरा कुछ ......   अजीब सी बात कर बैठा..
तेरे इश्क़ में चूर होकर..... ख़ुद से दगा कर बैठा.....

Dil bhi mera kuch.. Ajeeb se baat kar betha,
Tere ishq mai chur hokar,
Khud se daga kar betha....


वो अलग थे तभी तो हमारे थे,
ये हुनर ही था, जो उनकी ओर खिंचे गए हम.....

Wo alag the tabhi to hamre the,
Ye hunar he tha jo unaki aoor..
Kiche gaye ham....


काश की वक़्त ज़रा ठहर सा... जाए,
मेरे यार ने आने को कहा है, गर वक़्त.... न बदला तो

Kash ki waqt jara tahar sa jaye,
Mere yaar ne aane ko kaha hai..
Gar waqt na badala to...


कम से कह ही देते एक बार,
मोहब्बत थी.... उन्हें जानें देते हम आसानी से....  किसी औऱ के लिए......

Kam se kah he dete ek baar
Mohabbat thi.. Unhe Jane dete ham aasani se,
Kise aur ke liye.....


उम्मीदें ज्यादा मत करना..... ऐ दिल,
तुझे तो अब मालूम ही है कितनी तकलीफ होती है.....

Umeede jayda mat karna.. Ye dil
Tujhe to ab maalom he hai,
Kitani taqleef hoti hai.....


उस गली से गुजरना ही छोड़ दिया मैंने,
जब भी उधर से गुजरा.... तो रो-कर लौटा मैं......

Ush gali se guzarna he chod diya Maine,
Jab bhi udhar se guzara. To ro kar Lauta mein..


अक़्सर कुछ बातें चुभ जाती हैं मन में,
मज़ा आता है दुनियाँ को तड़पता देखनें में

Aksar kuch baate chubh jati hai man main,
Maza aata hai duniya ko tadapta dekhne main..


शहर हमारा, गाँव हमारा, लोग हमारे, जगह हमारी,
पराये तो..... सिर्फ इस भीड़ में...... हम.. ख़ुद हैं...... ख़ुद से...आजकल

Sehar hamara gaon hamara log hamare,
Jagah hamari paraye to sirf ish bheed mai
Ham khud hai khud se aajkal....


बरस ही दें तो अच्छा है,
ये बार बार घिर के बादलों का चले जानां..... अच्छा नहीं लगता

Baras he de to achaa hai,
Ye baar baar ghir ke badalo ka Chale jana,
Achaa Nahi lagta.....


Sad shayari for boys 2 line 

2 line whatsapp sad shayari for boys


लोगों का क्या है वो तो बदल जाएंगे,
आप अपना देखिये, की बदलने के ज़िद में कहीं बिछड़ न जाएँ... आप खुद ही से...

LOGO KA kya hai wo to badal jaynge,
Aap apna dekhye ki badalne ke zidd mai
Kahi bichad na jaye aap khud se he....


राज़ की बात तो ये है कि हम उन्हें नादान समझते रहे... ,  और उन्होंने..
हमसे कहा कि उन्हें पाना है.... तो घर छोड़ के आएं हम......

Raj ke baat to ye hai ki ham unhe naadan samajhte rahe,
Aur unhone hamse kaha ki unhe paana hai,
To ghar choad ke aaye ham....


बस इतना बता की कहाँ नहीं है ख़ुदा,
वहीं जा के गुनाह करने का इरादा है मेरा...

Bas itna Bata ke kha Nahi hai khuda,
Wahi ja ke gunah karne ka irada hai mera....


आइनों का इरादा खतरनाक ही था.......,
सच्चाई दिखानें को भी जिगरा बेहतरीन वाला चाहिए.......

Aayene ka Iraada Khatarnak he tha..
Sachai dekhane ko bhi jigara,
Behtreen wala cahye....


जिंदगी कितनी बड़ी है अब क्या ही बताएँ,
कल ही ज़रा समझदार हुए थे, अब थकने लगे हैं.......

Zindagi kitni badi hai Ab kya he bataye,
Kal he jara samjhdar hue the ab thakne lage hai...


ख़ाबों को बताइये सिर्फ उनको ज़नाब,
जानकर भी उनको जो महफूज़ रख सके...

Khawboo ko batye sirf janab,
Janakar bhi unko jo mahfooz rakh skae...

Read more.. 

Post a comment

0 Comments