Ads 1

Pyar me matlabi shayari image download,मतलबी मोहब्बत शायरी



मतलबी शायरी स्टेटस हिंदी


Matlabi shayari प्यार मैं मतलबी शायरी


तुम जाते जाते इस प्यार को भी मतलबी बना गये
और हम मरते मरते भी इस मतलबी को प्यार कर गये।।


Tum jate jate ish pyar ko bhi
Matlabi bana gaye
Aur ham marte marte bhi
Ish matlabi ko pyar kar gaye.. 


हम प्यार मैं तेरे अंधे हो गये इतना की
जब जरूरत पड़ी तुम्हारे सहारे की
तो तुम उस लाठी को ही तोड़ गये ।।

Ham pyar mai tere andhe ho gaye itna ki
Jab jarurat padi tumhare Shahre ki
To tum ush lathi ko he tod gaye..



इस मोहब्बत के हर चहरे पर है कई नकाब
शायद इसलिए पूरे नही होते सच्चे प्यार के
वो सारे ख्वाब ।।

Ish mohabbat ke har chahre par
Hai kai nakab
Shyad ishliye pure Nahi hote sachee
Pyar ke wo sare khwab..


ख्वाबो के इस शहर मै मैने थामा था तेरा हाथ
आज तुमने अपने मतलब के लिये
छोड़ दिया मेरा साथ ।।

Khwabo K ish shahar mai Maine thama
Tha tera hath
Aaj tumne Apne matlab K liye
Chod diya mera sath..



दिल टूट जाये तो भी मुस्कराना पड़ता है
मतलबी से भरे है यहां कुछ लोग
अपना दर्द उन लोगो के सामने
छुपाना ही पड़ता है ।।

Dil toot jaye to bhi muskarana padta hai
Matlabi se bhare hai yaha kuch log
Apana Dard un logo K samane
Chupana he padta hai..


  प्यार मैं मतलबी लोगो को अक्सर मैने देखा है
उनके चेहरे पर मासूमियत के हज़ार नकाब होते है ।।

Pyar mai matlabi logo ko aksar Maine dekha hai
Unake chahre par masoomyat K Hazar nakab hote hai..

2 लाइन मतलबी शायरी के for WhatsApp


Matlabi shayari trdshayari


मेरे प्यार की कीमत उसने लगा दी
उस बाजार मैं
जहा कुछ अमीर लोग घुमा करते थे ।।

Mere pyar ki keemat usne laga di
Ush bazaar mai
Jaha kuch ameer log guma karte the..


खुदा से क्या सवाल करे उसने तो ये दिल बनाये
मतलबी तो इंसान को उसकी नियत ने बनाई ।।

Khuda se kya sawal kare usne
To ye dil banye
Matlbi to insaan ko uski niyat ne banaye..



मैं उस गली मैं दिल लगा बैठा
जिस गली की दीवारों पर
बस मतलबी लोगो के चेहरे बने हुए थे ।।

Mai ush gali mai dil laga betha
Jis gali ki deewaro par
Bas matlabi logo ke chahre
Bane hue the..


शिकायत भी तुझसे क्या करते
हम खुद ही ना समझ थे ।।

Shikayat bhi tujhse kya karte
Ham khud he na samjh the..

Read more shayari

Post a comment

0 Comments